Astrology, Horoscope Articles

Devi Kalratri is worshiped on Seventh Day of Navratri

Devi Kalratri is worshiped on Seventh Day of Navratri Ekveni Japakarnapura Nagna Kharastitha | Lamboshthi Karnikakarni Tailabhyakta Sharirani || Vaampadolla Salloh Lata Kanthak Bhushna | Vardhan Murdha Dhvaja Krishna Kalratri Bhayankari || The most horrific appearance of Durga is in form of Kalaratri. Devi Kalratri is the seventh manifestation of Durga and Worshiped among Navdurga. She is accepted to be the fiercest Devi among Navdurga. She has dark complexion and…

Oct, 02 2014 07:51 am
Read More

नवरात्रि का छठा दिन पूजा विधि

आज नवरात्रि का छठा दिन है तथा दुर्गा पूजा का दूसरा दिन भी मनाया जाता है। माँ दुर्गा ने इस दिन कात्यायनी के रूप में अवतरित हुई थी। नवरात्रि के छठे दिन को माँ कात्यायनी देवी की आराधना तथा पूजा करके मनाया जाता है। देवी कात्यायनी का रूप-विवरण माँ कात्यायनी को तीन नेत्र और चार हाथों के साथ चित्रित किया गया है। उनके ऊपर बाएँ हाथ में तलवार है और…

Sep, 30 2014 08:36 am
Read More

Devi Katyayani is Worshiped on Sixth Day of Navratri

Devi Katyayini or Katyayani is worshiped on the sixth day of Navratri festival Chandra Hasojvalakara Shardul Var Vahna | Katyayini Shubham Dadhya Devi Dan Vaghatini || Divine Goddess Katyayini is the sixth incarnation of Durga and one of the noticeable divinities among Navdurga. She is stupendously worshiped on the sixth day of Navratri pooja. Her appearance is hugely glorious and divine. She is spoken to with four-arms. Her upper left…

Read More

नवरात्रि पंचमी दुर्गा पूजा विधि

आज नवरात्रि का पांचवां दिन है, जो देवी स्कंदमाता को समर्पित है। माँ स्कंदमाता की चार भुजाएँ हैं। दाएॅं हाथ में उनके पुत्र कार्तिके पहली भुजा में विराजमान हैं। बाएँ हाथ की पहली भुजा वरदान देने की अवस्था में है। दोनों हाथों की दूसरी भुजा में माँ स्कंदमाता कमल का फूल धारण किए हुए हैं। इसके अतिरिक्त, इस दिन की शुभता उपंग ललिता की पूजा भी बढ़ाती है। इस कारण…

Read More

Devi Skanda Mata is Worshiped on Fifth Day of Navratri

Devi Skanda Mata is worshiped on the fifth day of Navratri festival Sinhasan Gata Nitayam Padmashrit Kardvaya | Shubhdastu Sada Devi Skanda Mata Yashashvini ||  Skanda mata is the fifth manifestation of Navdurga. On the fifth day of Navratri Pooja, Skanda mata is worshipped. Admirers offer incredible veneration to Ma Skanda on Panchami of Durga Pooja. Skanda is the name given to Kumar Kartikey. Goddess Parvati is mother of Kartikey…

Read More

Devi Kushmanda is Worshiped on Fourth Day of Navratri

Devi Kushmanda is worshiped on the fourth day of Navratri festival Sura Sampurna Kalasham Rudhira Plutmev Cha | Dadhana Hastpad Mabhyam Kushmanda Shubh Dastu Me || Maa Kushmanda is the fourth incarnation of Goddess Durga. On the fourth day of Navratri Pooja, worship of Devi Kushmanda is performed providing for her entire reverence. She sustains the whole universe with her divine and delicate smile that respected her with name ‘Kushmanda’….

Read More

नवरात्रि चतुर्थी पूजा-विधि

आज नवरात्रि का चैथा दिन है। आज का दिन देवी कूष्माण्डा को समर्पित है जो ब्रह्माण्ड की रचनाकार है। आज का दिन देवी कूष्माण्डा की उपासना कर आप अपनी परेशानियों को अलविदा करने का और एक नए और सुनहरे भविष्य की रचना करने का सुख प्राप्त कर सकते हैं। माँ कूष्माण्डा इस सृष्टि की रचयिता हैं और वे ही हैं जो सम्पूर्ण जगत को ऊर्जा प्रदान करती हैं। अपनी सौम्य…

Sep, 28 2014 05:30 pm
Read More

Devi Chandraghanta is worshipped on Third Day of Navratri

Devi Chandraghanta is worshipped on Third Day of Navratri Pindaj Pravara Rudha Chand Kopastra Keyurta | Prasadam Tanute Maham Chandra Ghanteti Vishruta || Third manifestation of Goddess Durga is Devi Chandraghanta who is worshiped on the third day of Navratri Pooja. Devotees offer great devotion and worship to this all-mighty on the third day of Durga Pooja. This incarnation of Goddess Durga is massive or most extreme pure and blissful….

Sep, 27 2014 10:16 pm
Read More

नवरात्री तृतीया पूजा-विधि

नवरात्री का तीसरा दिन देवी माता चंद्रघंटा की पूजा को समर्पित है। इनको माता पार्वती का विवाहित रूप माना जाता है। षिवजी से विवाह के पश्चात इन्होंने अपने माथे पर अर्ध-चन्द्र धारण कर लिया था, जो एक घंटे की तरह उनके मस्तक पर विराजमान हो गया। इसी कारण से देवी को ‘चंद्रघंटा’ नाम दिया गया। देवी चंद्रघंटा शुक्र ग्रह को दर्शाती हैं। इनके दस हाथ हैं। सीधे हाथ के चार…

Read More

Devi Brahmacharini Puja on Navratri Day 2

Devi Brahmacharini is Worshiped on Second Day of Navratri Dadhana Karpadma abhyamaksh Mala kamandalu| Devi Prasidatu Mayi Brahmacharinya Nuttama || Devi Brahmacharini is second manifestation of Goddess Durga who is worshiped on the second day of Navratri. As her name means ‘Brahmacharini’, she addresses “Brahma” (penance) or tough influencing tapasya. She is symbolized as the Goddess who performs Tapa or hard retribution. She holds Kamandal in her left hand and…

Read More

Devi ShailPutri Puja Navratra Day 1

Devi Shailputri is Worshipped on First Day of Navratri Vande Vanchhitalabhay chandrardhakritshekharam | Vrisharudham Shooldharam Shailputreem Yashasvineem || Maa Durga is adorned with name “Shailputri” as her first incarnation. Navratri starts with worship of Devi Shailputri. As she is the daughter of Parvat Raj Himalya (King of mountains), she is appreciated with name ‘Shail Putri’.  Goddess Durga is embodiment of Shakti (power) and shows herself in nine forms. These nine…

Read More

नवरात्रि द्वितीया पूजा-विधि

नवरात्रि का दूसरा दिन देवी ब्रह्मचारिणी को समर्पित है। माता ब्रह्मचारिणी साहस, शांति और सफलता का प्रतीक हैं। उनके हाथ में कमल का फूल सुशोभित है और उन्हें कठोर तप की देवी माना जाता है। भक्तजन उनकी आराधना से सभी अप्रत्याशित घटनाओं से उबरने का साहस प्राप्त कर सकते हैं। माता ब्रह्मचारिणी माँ पार्वती का दूसरा अवतार हैं। उनके नाम, ब्रह्मचारिणी, के अनुसार, वह ‘ब्रह्म’ को दर्शाती हैं, जिसका तात्पर्य…

Read More

Methods of Worshipping Goddess Durga

As per the Hindu Mythology, it is said that even the Gods worship Goddess Durga during the Navratri. In Navratra, nine different forms of Goddess are worshipped. The nine forms of Durga are Shailputri, Brahmacharini, Chandraghanta, Kushmanda, Skandmata, Katyayani, Kaalratri, Ma Gauri and Siddhidatri is worshipped respectively. Beginning of Puja on First Day of Navratri On the first day, seeds of Jau or Barley are sown in a big vessel…

Sep, 26 2014 07:19 pm
Read More

Beginning of Navratra 2014 to 2015  – Pray to Maha Kali on Maha Maha Ashtami Puja

Navratra 2014 will commence from 25 September 2014 to till next year Navratri 2015. On Pratipada, devotee’s bath in morning and then resolution is taken. After the resolution of fast, an earthen Vedi is built and Barley is sown in it. This process can be done by priest or even the worshipper himself can perform the task. Kalash Sthapana is the next step in which the Kalash is then placed…

Read More

नवरात्रों में माता की पूजन तथा समापन की विधि

नवरात्रों में माता की पूजन तथा समापन की विधि नवरात्रों में मान्यता है कि देवता भी माॅं भगवती की पूजा किया करते हैं। माॅं दुर्गा के नौ रुपों की पूजा नवरात्रों में की जाती है। माता के नौ रुप इस प्रकार है:- शैलपुत्री, ब्रह्माचारिणी, चन्द्रघंटा, कूष्माण्डा, स्कंदमाता, कात्ययायनी, कालरात्रि, मां गौरी तथा सिद्धिदात्रि प्रतिपदा तिथि में पूजा प्रारम्भ करना नवरात्रों में माता की पूजा करने से पूर्व माॅं भगवती की…

Read More

all about Navratri Story

The day from Pratipada of Ashwin Shukla Paksha to Navami date is called Navratri. This Navratra is of more noteworthy essentialness as contrasted with different Navratras. This Navratra is additionally called Shardiye Navratra. In 2014, this Navratri will start on 25th September and will end on 3rd October 2014. The aficionados tackle the Pratipada date and takes quick determination of nine days. Kalash is made on the first day. There…

Read More

नवरात्रों में भोग से कैसे करें माता को प्रसन्न

नवरात्रा पर्व नौ दिन चलता है। इन नौ दिनों में तीनों देवियों अर्थात दुर्गा, लक्ष्मी एवं सरस्वती तथा माता के नौ रुपों की पूजा होती है। प्रथम तीन दिन देवी पार्वती के तीन स्वरुपों को पूजा जाता है। अगले तीन दिन लक्ष्मी माता के तीन स्वरुपों की पूजा होती है तथा अंतिम तीन दिन सरस्वती माता को पूजा जाता है। माता के नौ रुपों को लगाया जाने वाला भोग माॅं…

Read More

षारदीय नवरात्री तिथी – षारदीय नवरात्रा घट स्थापना विधि

  इस वर्ष 2014 में षारदीय नवरात्री 25 सितम्बर, अष्विन षुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से प्रारम्भ होंगे। इस दिन हस्त नक्षत्र, प्रतिपदा तिथि के दिन षारदिय नवरात्रों का पहला नवरात्रा होगा। इन दिनों में जप पाठ, व्रत, यज्ञ, दान आदि षुभ कार्य करने से व्यक्ति को पुण्य फलों की प्राप्ति होती है। सर्वप्रथम श्री गणेष पूजा प्रतिपदा तिथि के दिन नवरात्रे पूजा षुरु करने से पहले कलष स्थापना कि…

Sep, 25 2014 07:21 pm
Read More

षारदीय नवरात्री – माता के नौ रुपों की अराधना नौ दिन

षारदीय नवरात्री – माता के नौ रुपों की अराधना नौ दिन इस वर्ष 2014 में षारदीय नवरात्री 25 सितम्बर, अष्विन षुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से प्रारम्भ होंगे। इस दिन हस्त नक्षत्र, प्रतिपदा तिथि के दिन षारदिय नवरात्रों का पहला नवरात्रा होगा। माता पर श्रद्धा एवं विष्वास रखने वाले व्यक्तियों के लिए यह दिन खास रहेगा। षारदीय नवरात्रों का उपवास करने वाले इस दिन से पूरे नौ दिन का व्रत…

Read More

नवरात्रि प्रतिपदा पूजा-विधि

षारदीय नवरात्री का आगमन हो चूका है। आज शरद नवरात्री का पहला दिन हैं। नवरात्री की नौ रातें देवी दुर्गा की नौ अवतारों को समर्पित की जाती हैं । आज प्रथम दिन प्रतिपदा पूजा के दिन देवी षैलपुत्री का पूजन होता है। आइए जानते हैं देवी शैलपुत्री का महत्व। देवी दुर्गा की पहली अवतार माता शैलपुत्री है। संस्कृत भाषा से उत्पन्न नाम ‘शैलपुत्री’ का अर्थ है ‘पहाड़ों की बेटी’। वैदिक…

Read More