अधिक मास में उपवास के क्या हैं लाभ? What are the benefits of adhik mass fast?

अधिक मास में उपवास के क्या हैं लाभ? What are the benefits of adhik mass fast?

अधिक मास के महीने में उपवास के साथ जुड़े कई लाभ हैं। उन लाभों के कुछ नीचे सूचीबद्ध हैं

इस अवधि के दौरान व्रत एक सौ हवनों और यज्ञों का प्रदर्शन करने के लिए बराबर है। उपवास लोगों पूरा आनंद, शांति और खुशी को पाने के पथ की लेकर ओर जाता है।

images (10)

व्रत के उद्देश्य इच्छाओं को पूरा करने के लिए, देवताओं शांत करना करने के लिए और परमात्मा की     कृपा प्राप्त करने के लिए है। इस माह लोगों को स्वस्थ संतानों के साथ साथ खोए स्वास्थ्य और धन हासिल करने के लिए भी आशीर्वाद प्राप्त होता है। भगवान विष्णु जीवन के कठिन समय के दौरान दिव्य मदद और सहायता के साथ व्यक्ति को आशीर्वाद देते हैं।

इस महीने में अच्छे कर्मों प्रदर्शन करने वाले व्यक्तियों को अपने मन पर जीत प्राप्त होती है और उनके दुख का नाश होता हैं और वे पुनर्जन्म के चक्र से पूरी तरह से बाहर जाते हैं।

किसी भी रूप में मल मास के दौरान तपस्या एवं यज्ञ आध्यात्मिक योग्यता के लाभों में वृद्धि देता है।

ग्रह दोष निवारण पूजा या किसी भी अन्य दोष निवारण पूजा का पुरुषोत्तम में करना उसके हानिकर प्रभाव के को खत्म करता है तथा यह माह इस पूजा के दस गुना सकारात्मक परिणाम की संभावनाओं को बढ़ाता है।

 

 

अधिक मास के पूरे महीने के दौरान भक्तों द्वारा श्रीमद देवी भागवत, श्रीमद भागवत पुराण, श्री विष्णु पुराण पढ़ना, भविष्योत्तर पुराण का पाठ किया जाता है। आध्यात्मिकता के इन कृत्यों के द्वारा धार्मिक योग्यता की पर्याप्त लाने के लिए और व्यक्तियों में बेहतर परिवर्तन करने के लिए महत्वपूर्ण माना गया है।

परिणामों की उम्मीदों के बिना निःस्वार्थ कृत्य अधिक मास के दौरान भक्तों को करने चाहिए।

AdhikMaas download app short

अधिक मास के दौरान भगवान विष्णु की पूजा करना तथा भगवत पुराण सुनाना एवं भगवान विष्णु के भजन करना लाभदायक होता है। विष्णु सहस्त्रनाम एवं विष्णु सुक्ता जप भी कर सकते हैं।

ब्रहम मुहूर्त में एवं सुबह प्रक्षालन प्रदर्षन के बाद भक्तजन राधा कृष्ण अथवा लक्ष्मी नारायण की मूर्तियों की षोड़स्पचार पूजा करते हैं।

किसी मंदिर में जाकर मंदिर के देवी देवताओं की पूजा भी कर सकते हैं। इस समय किए गए तीर्थयात्रा फलदायक मानी जाती है।

इस समय किए गए धार्मिक अनुष्ठानों के द्वारा भक्तजन अपने अतीत एवं वर्तमान जीवन के दौरान हुए सभी पापों को धोने में सक्षम है।

धार्मिक गतिविधियों के द्वारा मलमास का अधिक से अधिक लाभ उठाएं। ऊपर उल्लेख दिशानिर्देशों का पालन करें और अपने जीवन शांतिपूर्ण और समृद्ध बनाए।

Clik here for adhik mass pooja

Click here for all about pooja yagya

 

 

May, 07 2015 05:24 pm