शनि जयंती उत्सव पर शनिदेव की महाआरती एवं शनि देव के दिन भर लाईव दर्शन

श्रीनवग्रहमंदिरमें

शनि जयंती उत्सव पर शनिदेव की महाआरती एवं शनि देव के दिन भर लाईव दर्शन 

सम्पूर्ण भारतवर्ष के एकमात्र. एवं श्री नवग्रह की नगरी खरगोन के ऐतिहासिक व सुप्रसिद्ध श्री नवग्रह मंदिर में दिनांक 04 and 05 May 2016 Saturday Sunday  को शनि जयंती का योग बन रहा है।

मंदिर स्थापनकर्ता के छठी पीढ़ी के वंषज पं. लोकेश द. जागीरदार जी ने बताया कि ब्रह्म मुहूर्त में भगवान शनिदेव का रूद्राभिषेक एवं महापूजन होगा। यह अभिषेक मूंगफली के तेल से किया जावेगा। भगवान शनिदेव की प्रथम महाआरती प्रातः 9 बजे एवं द्वितीय श्रृंगारिक महाआरती सायं 7.00 बजे संपन्न होगी। इस अवसर पर शनिदेव को महाप्रसादी का विशेष भोग लगाया जावेगा।

श्री नवग्रह मंदिर में विराजमान श्री शनि देव के शनि जयंती उत्सव पर कोई भी श्रृद्धालु एवं भक्तगण सम्पूर्ण विष्व के किसी भी कोने से घर बैठे ऑनलाइन लाइव दर्शन कर सकते हैं। इस सेवा के लिये श्रृद्धालु को वेबसाईट www.navgrahmandir.com पर जाकर live darshan पर जाकर click करना होगा। एन्ड्रायड मोबाईल के लिये navgrah mandir live darshan का apps, google play store सेdownload कर सकते हैं। जिसके द्वारा नवग्रह मंदिर में स्थापित श्री शनिदेव के दर्शन होंगे।

उन्होंने बताया कि 04 जून  2016 को ज्येष्ठ कृष्ण अमावस्या का योग बन रहा है। शास्त्रों के आधार पर ज्येष्ठ कृष्ण अमावस्या को शनि जन्मोत्सव मनाने का विधान है। अतएव इस पर्व पर शनिदेव के दर्षन पूजन व आराधना से आने वाले वर्ष में साढ़ेसाती व शनि पीड़ा का निवारण होगा एवं सुख समृद्धि व सुख-षांति का आषीर्वाद प्राप्त होगा।

व्यवस्थापक पंडित लक्ष्मीकांत जागीरदार ने बताया कि शनि जयंती उत्सव पर शनि देव को प्रसन्न करके साड़ेसाती व ढैया दोष, शनि पीड़ा, शनि दोषों को शांत किया जा सकता है। शास्त्रानुसार शनिदेव को काला कपड़ा, काली उड़द, काले तिल, लोहा, कोयला आदि का दान करने व मूंगफली तेल चढ़ाने का विधान है। इस जयंती उत्सव पर किया गया पूजन विशिष्ट फलदायक शनि पीड़ा व दोष निवारक, शनि शांतिकारक, शनि कृपा, प्रसन्नता प्रदायक व परिवार कल्याणकारक होता है। इस पावन पर्व पर मंदिर में विराजमान शनिदेव का विशेष श्रृंगार किया जायेगा एवं सायंकाल शनिदेव की श्रृंगारिक महाआरती होगी। मंदिर परम्परा के अनुसार यहां पर शनि देव को मूंगफली का तेल चढ़ाने का विधान है, अतएव इस पर्व पर अनेक शनि भक्तों द्वारा दिनभर मंदिर में स्थापित शनिदेव को मूंगफली का तेल चढ़ाया जावेगा।

शनी शांती पूजा एवं तेल अभिषेकम् Order Now

You may order now via web site for Shani Jayanti – Shani Shanti Puja.

Or

Directly order via CC Avenue Payment gateway

Category: Festivals

May, 18 2016 10:49 am