Guru Brihaspti Transit 2017 Predictions in Hindi – Jupiter in Libra – Gochar Tula Rashi

बृहस्पति गोचर 2017 तुला राशि में 12 सितंबर 2017 से नवंबर 2018 तक

जाने आपकी राशि  के लिए कैसा रहेगा 

Guru Brihaspti Transit 2017 Predictions in Hindi – Jupiter in Libra – Gochar Tula Rashi

Guru Graha Gochar Rashifal in Hindi, Brihaspti Graha Rashi Parivaran in Tula 2017 to 2018

 | Predictions in Hindi | Guru Brihaspthi Tula Rashi Me | Jupiter Transit Prediction In Hindi

बृहस्पति ग्रह को सबसे उत्तम ग्रह माना गया है। इस ग्रह की कृपा से जातक को संतान, दामप्तय एवं धन की प्राप्ति होती है। यह ग्रह सकारात्मक एवं सेहतपूर्ण जीवनषैली जीने का तरीका इंसान को सिखाता है। इस वर्ष यह ग्रह सभी राषियों से गोचर करेगा तथा महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। यह सभी राषियों पर सकारात्मक परिणाम डालेगा किन्तु गुरु की आपकी राषिचक्र में स्थिति आपके जीवन में परेषानीयों का कारण भी बन सकती है।

for Reading in English Click Here

बृहस्पति का साल 2017 में कन्या राषि में 06 फरवरी से गोचर रहेगा। इसके पष्चात यह 12 सितंबर से तुला राषि में प्रवेष करेगा तथा 09 नवंबर 2018 तक इसी राषि में रहेगा। इस गोचर के सभी राषियों पर प्रभाव निम्न प्रकार होंगे:-

मेष

बृहस्पति आपके नवम भाव एवं बारहवें भाव का स्वामी है। नौवें भाव यष तथा समृद्धि से जुड़ा है तथा बारहवाॅं भाव दाम्पत्य सुख, सेहत तथा व्यय से संबंधित है। इस दौरान आप कानूनी समस्याओं का सामना कर सकते हैं। कानूनी मामलों तथा जमीन से जुड़े कार्य में सावधान रहें। आप किसी लम्बी दूरी का यात्रा पर भी जा सकते हैं। यात्रा के लिए आप अपने परिवार अथवा प्रियजन के साथ जा सकते हैं। कार्यस्थल पर आपके कार्य को देखते हुए उन्नति मिल सकती है तथा यह आपको आर्थिक मामलों में मदद कर सकती है। सितम्बर तक बृहस्पति आपके छठे भाव में होगा जिसके कारण आप अपने दामपत्य जीवन में परेषानी का सामना कर सकते हैं। षांति एवं संयम के अपने जीवनसाथी से बात करें। सितंबर के बाद बृहस्पति आपके सातवें भाव में होगा। इस दौरान अविवाहित लोगों को साथी मिल सकते हैं। भाई-बहन को तरक्की मिल सकती है। आपको इस समय आर्थिक लाभ प्राप्त होगा। भगवान षिव की पूजा करें।

वृषभ

बृहस्पति आपके आठवें भाव एवं ग्यारहवें भाव में गोचर कर रहा है जो क्रमषः बदलाव, स्थिरता एवं आर्थिक मुनाफे को दर्षाते हैं। यह गोचर आपके लिए लाभदायक रहेगा क्योंकि बृहस्पति आपके पाॅचवें भाव में स्थित है। गुरु ग्रह आपके लिए लाभदायक है। आपकी आय में वृद्धि हो सकती है। विद्यार्थीयों के लिए भी यह साल अच्छा रहेगा। आप इस समय धार्मिक प्रवृत्ति के हो सकते हैं। सितंबर के पष्चात बृहस्पति आपके छठे भाव में होगा जिसके कारण कुछ सेहत से संबंधित परेषानी हो सकती है। मोटापा आपको परेषान कर सकता है। आप अपनी देखभाल करें तथा समय से खान पान करें तथा व्यायाम करें। कार्यस्थल पर वरिष्ठ अधिकारी आप पर नजर रखेंगे। कोषिष करें की प्रदर्षन करें। चांदी एवं कपड़ों का पंड़ितों को दान करें।

Click Here for Guru Graha Shanti Homam

मिथुन

बृहस्पति आपके सातवें एवं दसवें भाव में गोचर कर रहा है तो क्रमषः दामपत्य, संबंध एवं व्यवसाय से संबंधित है। गुरु आपके चैथे भाव में स्थित है तथा इससे आपका निजी जीवन बेहतरीन रहेगा। घर पर वातावरण षांतिपूर्ण होगा। आपकी इस समय अपने साथी से भेंट हो सकती है। कार्यस्थल पर आपके चतुर निर्णयों के कारण आपको सम्मान मिलेगा। आप धार्मिक कार्याें में तथा धार्मिक यात्रा में धन लगा सकते हैं। सितंबर के बाद गुरु आपके पाॅंचवे भाव में होगा। इस कारण आपकी अपने प्रियतम षादी की संभावनाएॅं बढ़ सकती है। इस समय आपको मान, सम्मान एवं यष की प्राप्ति होगी। पंड़ित एवं साधुओं की मदद करने से आपको जीवन में अच्छे परिणाम मिलेंगे।

कर्कबृहस्पति आपके नौवें एवं छठे भाव में है। यह भाव जातक के मान-सम्मान, षत्रु एवं बीमारीयों को दर्षाते हैं। बृहस्पति चुंकि आपके तीसरे भाव है इस कारण आपके वैवाहिक जीवन में समय अच्छा होगा। आपको अपने साथी का भरोसा एवं साथ मिलेगा। अपने साथी के साथ कहीं बाहर जा सकते हैं। आपको इस समय आर्थिक मुनाफा भी हो सकता है। धार्मिक स्थल पर यात्रा करने के आसार भी हैं। आर्थिक रुप से आप इस साल मजबूत रहेंगे। अपने निर्णय भलि भांति सोच समझकर लेवें अन्यथा आपको परेषानी हो सकती है। सितंबर के पष्चात बृहस्पति आपके चैथे भाव में होगा जिस कारण आपके पारिवारिक जीवन में खुषियाॅं आएॅंगी। घर पर सभी के साथ संबंधों में सुधार होगा। यह गोचर आपके लिए आर्थिक रुप से भी काफी अच्छा है। दालों का दान करें।

सिंह

बृहस्पति आपके पाॅंचवे एवं आॅंठवे भाव में है जो षिक्षा, बच्चों के जुड़े बदलाव तथा स्थिरता को दर्षाते हैं। इस गोचर के कारण आपके घर में कोई बड़ा मांगलिक कार्यक्रम हो सकता है। आपको धार्मिक गतिविधियाॅं आर्कषित कर सकती हैं। चंुकि बृहस्पति आपके दूसरे भाव में स्थित है आपकी दानवीर प्रवृत्ति आप पर भारी पड़ सकती है जिसके कारण आपकी समाज में प्रतिष्ठा बढ़ेगी। आपको अनबिज्ञ स्त्रोतों से धन लाभ हो सकता है। सितंबर के बाद बृहस्पति आपके तीसरे भाव में प्रवेष करेंगा। इस समय आप अपनी सेहत का ख्याल रखेंगे तथा खान पान का भी विषेष ख्याल रखेंगे। कोई खुषखबरी भी आपको मिल सकती है। वैवाहिक जीवन में भी खुषियों का संचार होगा। आपका साथी आपका सभी कार्यों में साथ देगा। अवैवाहित लोगों की इस साल षादी हो सकती है। पारिवारिक जीवन में स्थिति सामान्य रहेगी। दुर्गा देवी की पूजा करें तथा छोटी बच्चीयों को मिठाई एवं फलों का दान करें।

Click Here for Guru Brihaspthi Transit Puja

कन्या

बृहस्पति आपके चैथे एवं सातवें भाव में है जो आपकी माता, खुषियों, गाड़ी एवं आपके जीवनसाथी तथा संबंधों को दर्षाते हैं। यह साल आपके लिए बेहतरीन होगा। आपको आर्थिक लाभ होने की संभावना है। आपके द्वारा लिए गए निर्णय इस समय आपकी मदद करेंगे। बच्चों की पढ़़ाई पर ध्यान देवें। अति आत्मविष्वास में ना रहें। आप अपने कार्य में सर्तक रहें। जीवनसाथी का आपकी जिंदगी पर काफी प्रभाव होगा। सामाजिक तौर पर यह गोचर अच्छा रहेगा। घर पर सभी को खुष रखें तथा बिना बात वाद विवाद ना करें। सितंबर के बाद गुरु दूसरे भाव में गोचर करेगा। आपको इस दौरान स्थिरता तथा षांति का अनुभव होगा। अपने गुस्से पर काबू रखें। पीले वस्त्रों का दान करें।

Click Here for Guru Graha Gochar Puja

तुला

बृहस्पति आपके तीसरे एवं छठे भाव का स्वामी है। यह दोनों भाव आपके भाई-बहन, बोलचाल, षत्रु तथा बीमारीयों को दर्षाते हैं। इस समय बृहस्पति आपके बारहवें भाव में गोचर कर रहा है। आप अपनी आय का काफी हिस्सा अपनी सेहत की देखभाल पर लगा सकते हैं। आपकी सेहत आपके व्यायाम करने की क्षमता पर निर्भर करेगी। आपको कोई पुरानी बिमारी परेषान कर सकती है। आप अपने रवैये के कारण नुकसान उठा सकते हैं। निर्णय करने से पहले सोचें अन्यथा आपकी छवि खराब हो सकती है। सितंबर के बाद आपके जीवन में खुषियाॅं आ सकती हैं। अपने निर्णय लेने की क्षमता पर भरोसा करें तथा अपने उद्देष की पूर्ति पर ध्यान देवें। गरीब लोगों की मदद करें।

वृश्चिक

बृहस्पति आपके दूसरे एवं पाॅंचवें भाव में है जो धन, परिवार, बोलचाल, षिक्षा तथा बच्चों को दर्षाता है। गुरु आपके ग्यारहवें भाव में स्थित है। आपकी षिक्षा इस समय बेहतरीन होगी। आपकी बौद्धिक क्षमता आपको दूसरों से आगे निकलने में मदद करेगी। आप अपनी षिक्षा की मदद से आर्थिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं। षिक्षा के लिए बाहर जाना पड़ सकता है। आपके समक्ष नई साझेदारीयों के प्रस्ताव आ सकते हैं। प्रेम संबंधों में भी मधुरता आने की संभावना है। सितंबर के बाद बृहस्पति आपके बारहवें भाव में होगा। इस दौरान आपने जीवन में कठिनाईयाॅं आ सकती है। सेहत से जुड़ी परेषानीयाॅं आपको प्रभावित कर सकती है। आपकी षिक्षा भी प्रभावित होगी। कार्यक्षेत्र में सफफलता प्राप्त हो सकती है। नकारात्मक लोगों से दूर रहें। बुजुर्गों की सेवा करें।

Click Here  for Guru Graha Shanti Puja

धनु

बृहस्पति आपके लग्न एवं चैथे भाव का स्वामी है। यह भाव आपके चरित्र, स्थिरता, माता, गाड़ी तथा खुषियों को दर्षाती है। इस गोचर में आपके कार्यस्थल पर बदलाव आ सकता है क्योंकि बृहस्पति आपके दसवें भाव में है। आपको कार्यक्षेत्र में तरक्की तथा उन्नति मिलने के भी आसार हैं। आपका कार्य आपके वरिष्ट लोगों को दिखेगा तथा पसंद आएगा। आप एक महत्वपूर्ण निर्णयाक के रुप में उभरेंगे। आप नया घर अथवा जमीन ले सकते हैं। आप अपने घर को सुंदर करा सकते हैं। आपका ज्यादा समय आरामदायक वस्तुओं पर बितेगा। वैवाहिक जीवन में थोड़े टकराव की स्थिति बन सकती है। आपकी निजी जिंदगी व्यस्त रहेगी परन्तु आप मनोरंजन के लिए समय निकाल लेंगे। सितंबर के पष्चात परिस्थितियों में बदलाव आएगा। कार्यक्षेत्र में कोई भी लापरवाही ना बरतें। पीपल के पेड़ को निरंतर पानी देवें।

मकर

बृहस्पति आपके तीसरे एवं बारहवें घर का स्वामी है जो सेहत, भाई-बहनों से आपके रिष्ते, बोल-चाल सभी प्रारुपों को दर्षाता है। इस साल आप किसी लम्बी यात्रा पर जा सकते हैं। बृहस्पति आपके नवम भाव में है जिस कारण आपका दानपूर्ण चरित्र आपको मान सम्मान दिलाएगा। खुद को नकारात्मक लोगों से दूर रखें। असफलताओं से घबराएॅं नहीं अपितू बेहतर करने का प्रयास करें। किसी बाहरी निवेष के कारण आपकी आय में वृद्धि हो सकती है। सितंबर के बाद बृहस्पति आपके ग्यारहवें भाव में होगा जिसके कारण आपके जीवन में कठिनाई आ सकती हैं। आर्थिक रुप से संतुलन बिगड़ सकता है परन्तु आप निष्चंत रहें क्योंकि आय के नए स्त्रोत प्राप्त होंगे। मंदिर में बादाम का दान करें।

कुम्भ

बृहस्पति आपके दूसरे भाव का स्वामी है जो परिवार, धन तथा बोलचाल को दर्षाता है तथा ग्यारहवें भाव का स्वामी है जो आर्थिक भाव को दर्षाता है। बृहस्पति की आठवें भाव में स्थिति धन के व्यय की ओर संकेत कर रही है। आपको अपने आर्थिक भाव पर ध्यान देने की जरुरत है। आर्थिक रुप से आपको बेहतर निर्णय लेने की जरुरत है। इस वर्ष आप किसी धार्मिक गतिविधि पर भी धन खर्च कर सकते हैं। आपकी निर्णय लेने की क्षमता में सुधार होगा। आपकी सेहत यदि खराब है तो उसमें सुधार हो सकता है। परिवार के लोगों से आपको प्यार तथा साथ मिलेगा। माॅंस का भोजन में सेवन ना करें।

मीन

बृहस्पति आपके लग्न तथा दसवें भाव का स्वामी है जो आपके चरित्र, स्थिरता, कार्य को दर्षाता है। इस समय आपका वैवाहिक जीवन अच्छा रहेगा क्योंकि गुरु आपके सातवें भाव में है। आपके तथा आपके साथी के मध्य प्यार बढ़ेगा। आप एक दूसरे के साथ ज्यादा समय बिताएॅंगे। कार्यस्थल पर आपको आर्थिक मुनाफा हो सकता है। सेहत में स्थिरता आएगी। सितंबर में आपको परेषानीयों का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि गुरु आपके आठवें भाव में होगा। आपको मौसमी बिमारीयों का सामना करना पड़ सकता है। आपको इस साल बिना वजह किसी यात्रा पर जाना पड़ सकता है। व्यवसाय में भी परेषानी का सामना करना पड़ सकता है। योग एवं व्यायाम से आपको आराम मिलेगा। आलू, घी तथा कपूर की गोलियों का दान मंदिर में करें।

click here for jupiter pooja

Guru Graha Ki Complete Shani Ke Liye Click Here

 

Direct Live Chat with Jyotishi Pandit Lokesh Ji – Click Here

गुरु बृहस्पति ग्रह की पूजा और शांति मंत्र जप के लिए कॉल कीजिये पंडित लोकेश जागीरदार  – +91 7089 64 64 64

 

 

Jan, 31 2017 10:46 am